Wednesday, July 21, 2021

... अंधेरे छाँटते हैं...

🛖|
             अंधेरे छांँटते हैं
                     *
   पुराने  घर में  रातें  काटते हैं।
   काटते क्या अंधेरा छांँटते हैं।

   रौशनी ही नहीं जब मेरे घर में
   तीरगीयाँ सहर तक काटते हैं।

   ख़ुशी अबतक मयस्सर ही नहीं जब 
   मिले हैं दु:ख तो दु:ख ही बाँटते‌ हैं।

   वो बूढ़े हैं जो उस घर के  दादा
   वक़्त बेवक़्त कितना खाँसते हैं।

   अजब मातम का डेरा जग हुआ है
   लोग जीने को दु:ख भर काटते हैं।

    बड़ा सुकुमार है  दादी का पोता
    कहे  दादी  को- 'दादा डाँटते हैं।'

   किसी पल मरने वाले ज्योतिषीजी
   अजब है   भाग्य  मेरा  बाँचते‌ हैं ।

   अनर्गल करने वे कविता में हमको,
    ख़ुद को कवि निराला ही आँकते हैं।

    नहीं आते अब उसके छलावे में
    रात भर खुली आँखों जागते हैं ।

    छुपा कर रौशनी रक्खेंगे कब तक
    हम उनके अंधेरे जब फाँकते हैं।
                       *
                गंगेश गुंजन,
                २४.जुन.'२१.

              #उचितवक्ताडेस्क।

Tuesday, July 20, 2021

जिस्म रूह की तफ़्सील है

 ...बोले तो यह जिस्म,
    रूह की काम चलाऊ तफ़्सील भर है।        कोई मुकम्मल नहीं।
    क्या कहते हैं ?

            🌘 गंगेश गुंजन
   #उचितवक्ताडेस्क।

Wednesday, July 7, 2021

आधी हक़ीक़त

हक़ीक़त जो हो न आधी तो कठिन है ज़िन्दगी।

मुकम्मल मिलती नहीं है इसलिए सब रौशनी।

रात दिन यूँ चाँद और सूरज में बांँटा तब दिया।

इशारा ये ही तो क़ुदरत ने कभी का कर दिया।

                 गंगेश गुंजन

             #उचितवक्ताडेस्क


Tuesday, July 6, 2021

उम्मीदों के पंख

 🌈
       जब से कन्धों पर उग आये
       आशाओं के पंख।
       धरती पर लड़ना मुश्किल से
       आसाँ लगता है।             🌈
       

               गंगेश गुंजन
            #उचितवक्ताडेस्क।                                             

आज्ञाकारी मॉम-डैड

🏡|🏘️

    पहले बेटी-बेटे आज्ञाकारी होते थे।
    समाज में उनकी ही प्रशंसा होती थी।
    अब माँ-बाप आज्ञाकारी होते हैं।और         आज्ञाकारी मॉम-डैड आजकल सोसा-       यटीमें बहुत लोकप्रिय हो रहे हैं।

                    गंगेश गुंजन

               # उचितवक्ताडेस्क।

Tuesday, June 29, 2021

आँसू और मुस्कान अंतर्राष्ट्रीय भाषा हैं

मनुष्य के आंँसू और मुस्कान अंतर्राष्ट्रीय भाषा हैं। करुणा और आनन्द इसका व्याकरण हैं। इसकी लिपि सृष्टि ने स्वयं गढ़ी।
                      |🌍|
                  गंगेश गुंजन 

             #उचितवक्ताडेस्क।





Monday, June 28, 2021

...लेखक की दरिद्रता


             लेखक की दरिद्रता 

किसी लेखक की इससे बड़ी दरिद्रता और क्या होगी कि स्थानाभाव के कारण वह अपने घर में निजी पुस्तकालय तक बचा कर नहीं रख पाए। यहांँ तक कि कुछ चुनी हुईं मनपसन्द किताबें।
                    🛖🌳
             #उचितवक्ताडेस्क।